Sunday, April 24, 2011

India Means ....The Land of Miracle And Ripest Baba's


साधु चरित सुभ चरित कपासू।
निरस बिसद गुनमय फल जासू॥
जो सहि दुख परछिद्र दुरावा।
बंदनीय जेहिं जग जस पावा॥ (३)
भावार्थ:- साधु पुरुषों का चरित्र कपास के समान पवित्र होता है, जिसका फल बिना रस का विशुद्ध और गुणकारी होता है। इसी प्रकार साधु पुरुष स्वयं दुख सहन करके लोगों के दोषों को अपने गुणों से आच्छादित कर देते हैं, जिसके कारण वह संसार में सभी के वंदनीय होकर यश प्राप्त किया करते हैं।
               भारत के धर्मशास्त्र-रचयिताओं ने गुरु की महिमा की भूरि भूरि प्रसंशा की है।संतो की महिमा न्यारी है संसार के ताप से तप्त लोगों को वे शीतल छाया प्रदान करते है; चैन, आराम और सुकुन देते है। मानव का एक वर्ग – बहुत बडा वर्ग – ऐसा है जो संतो के बाह्य चमत्कारों से चकाचौंध हो जाता है, किन्तु कई संत पोंगा पाखंड दिखाकर भारतीय संस्कृति पर कलंक बन गए हैं।ऐसे संतों से सावधान रहना है

पाखंडी बाबा भीमानंद उर्फ राजीव रंजन द्विवेदी

इच्छाधारी कहने वाला पाखंडी बाबा भीमानंद उर्फ राजीव रंजन द्विवेदी पर अंतरराष्ट्रीय सेक्स रैकेट चलाने के आरोप हैं।  जिसके तार कोलकाता से लॉस वेगास तक फैले थे। भगवा चोले की आड़ में इस रास्ते से इसने करोड़ों के वारे-न्यारे किए।  इसके खिलाफ पहले से 5 केस दर्ज हैं। जिनमें से 2 में कोर्ट ने खुद ब खुद संज्ञान लिया। इसके खिलाफ संगठित अपराध में शामिल होने के आरोप हैं।इस बाबा ने धर्म एवं आध्यात्म की आढ़ में सेक्स रैकेट चलाकर पिछले दस साल में 25 हजार करोड़ की कमाई की है।इच्छाधारी बाबा का पिता बांदा के दस्यु सरगना ददुआ का सहयोगी रहा और उस पर हत्या और दहेज उत्पीड़न के मुकदमें चल रहे हैं।
भीमानंद के सेक्स रैकेट में करीब 600 लड़कियां शामिल थीं। इनमें एयर हॉस्टेस, मॉडल से लेकर एमबीए की छात्रा और अभिनेत्री बनने की तमन्ना रखने वाली यवुतियां थीं। इस रैकेट में उसके साथ कई दलाल और कॉलगर्ल भी शामिल थीं।
दिल्ली के उसके मंदिर में 14 कमरे, सीसीटीवी कैमरे और एक गुफा भी है। जांच से पता चला है कि दिल्ली की सीआर पार्क, आरके पुरम, भिखाजी कामा प्लेस और सफदरजंग एन्क्लेव जैसी पॉश कॉलोनियों में भी वो रैकेट चलाता है। उसके ग्राहकों में दिल्ली आने वाले धनी व्यवसायी और ज्वेलर होते थे, जो एक लाख रुपए रोज तक भुगतान कर सकते थे।

बाबा की काली कमाई के पांच तरीके
इच्छाधारी बाबा भीमानंद के गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने इस बाबा की काली कमाई के पांच तरीकों का खुलासा किया है। इन 5 तरीकों से ही भीमानंद ने करोड़ों की कमाई की है।
राजीव रंजन द्विवेदी यानी एक मामूली गार्ड से रसूखदार करोड़पति बाबा तक का सफर। ऐसा ढोंगी जिसके इशारे पर नेता से लेकर बडे़-बडे घरानों के लोग नाचते हैं। ये बाबा बना कैसे? करोडों का मालिक कैसे बना? इसका खुलासा दिल्ली पुलिस ने किया। दिल्ली पुलिस ने अपनी जांच में बाबा की काली कमाई के 5 तरीकों को उजागार किया है।

तरीका नबंर-1
सेक्स रैकेट
बाबा की कमाई का पहला जरिया देह व्यापार। सेक्स रैकेट के धंधे में राजीव रंजन उर्फ भीमानंद देखते ही देखते दिल्ली का सबसे बड़ा दलाल बन गया। इस धंधे में भीमानंद हाई प्रोफाइल मॉडल से लेकर मिडिल क्लास की लड़कियों को खुद ग्राहकों को मुहैया करता था। काली कमाई का सारा हिसाब किताब वो खुद रखता था।

तरीका नंबर 2
फाइनेंस का काम
बाबा की कमाई का दूसरा जरिया फाइनेंस का काम है। भगवा पहन कर मायामोह से दूर रहने की सीख देने वाला भीमानंद फाइनेंसर भी था। जो अपने भक्तों को 5 से 7 फीसदी की दर से ब्याज पर पैसे देता था। भीमानंद केवल गरीबों को सूद पर पैसे देता था। इसे वसूलने के लिए इसने टीम बना रखी थी।

तरीका नंबर 3
डोनेशन
भगवा चोला पहनने के बाद भोगानंद ने डोनेशन के माध्यम से खूब कमाई की। आस्था के नाम पर लोग दान और चंदे के रूप में बड़ी रकम दे जाते।

तरीका नंबर 4
मंदिर निर्माण और प्रवचन
भगवा पहन कर काली करतूत करने वाले भीमानंद ने कमाई के लिए मंदिर बनवाने की योजना बनाई थी। योजना के मुताबिक साईं के नाम पर ये मंदिर देश भर में बनने थे। भीमानंद का मानना है कि इन दिनों साईं के नाम पर लोग ज्यादा से ज्यादा चंदा और मदद दे सकते हैं। इसके लिए भीमानंद जगह-जगह प्रवचन करता और भजन संध्या का आयोजन करता।

तरीका नंबर 5
भजन करके बेवकूफ बनाना
पैसे कमाने का बाबा का एक और जरिया रियल एस्टेट था। इस कारोबार में भीमानंद नया था। कुछ महीने पहले ही उसने इस कारोबार में कदम रखा था। सूत्रों की माने तो भीमानंद बिल्डरों से मिलकर रियल एस्टेट सेक्टर में पैसों का निवेश करता था।
गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने बाबा की कमाई के तरीकों का तो पता कर लिया है लेकिन अभी भीमानंद के बारे में कई और खुलासे होने बाकी हैं। जैसे-जैसे जांच बढ़ेगी उम्मीद है और भी चौंकाने वाले खुलासे होंगे।

नाम- स्वामी नित्यानंद
गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी और पाखंडी नित्यानंद


पाखंडी नित्यानंद रासलीला में मग्न

बाबा रामदेव और पाखंडी नित्यानंद
दिन में शांति और प्रेम की सीख देने वाला 32 साल का ये बाबा शाम ढलते ही बेडरूम में आसक्ति की सीख देने लगता है। और सामने होती हैं दो महिलाएं जिनमें एक तमिल अभिनेत्री है। ये बाबा दावा करता है कि बीस लाख भक्तों का। उसके भक्तों में नेता भी हैं अभिनेता भी।
लेकिन उसी के एक भक्त को बाबा की हरकतें बर्दाश्त नहीं हुईं और उसने बाबा के बेडरूम में कैमरा लगा दिया। नतीजा- एक टीवी चैनल ने वो सीडी चला दी और बाबा का भगवा चोला तार-तार हो गया। फिर क्या था बैंगलोर से करीब 50 किलोमीटर दूर 29 एकड़ में फैले बाबा के आश्रम में बवाल शुरू हो गया, बाबा के पोस्टर और होर्डिंग पर जूते-चप्पल बरसाए जाने लगे।
तमिलनाडु के थिरुनामलाई के रहने वाले राजशेखर उर्फ स्वामी नित्यानंद के प्रवचनों की सीडी तमिलनाडु और कर्नाटक में काफी मशहूर थी। लेकिन नए वीडियो में बाबा का रूप देखकर लोग सकते में हैं। आरोप कर्नाटक में जमीन हथियाने का भी लगा। लेकिन अब तक बाबा ने कोई जवाब नहीं दिया। वो कैमरे से बच रहा है, इस वीभत्स सच से बच रहा है। भगवान को दिल में बसाने का दावा करने वाला ये बाबा अब जनता से बचता फिर रहा है।
गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी और पाखंडी नित्यानंद

इस पूरे मामले में अभी तक स्वामी की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई हे लेकिन यह बात गुजरात के लिए इस लिए खास हो जाती है क्योकि गुजरात के मुख्यमंत्री इस संत को बहुत पहले से जानते हैं और यह हम नहीं कहते खुद मोदी जी कह चुके हैं.
गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी और पाखंडी नित्यानंद


बात कुछ दिन पहले की है. स्वामी जी का एक प्रवचन वड़ोदरा में भी हुआ था जहां गुजरात के मुख्यमंत्री मुख्य मेहमान थे. यह कार्यक्रम ९ सितम्बर २००९ को वड़ोदरा में हुआ था जिसमें मोदी जी ने स्वामी नित्यानंद की एक पुस्तक (जीवन आनंद) विमोचन किया था. इस मौके पर नरेन्द्र मोदी ने कहा था कि इन्हें मैं बहुत पहले से जनता हूं. इनके बंगलौर आश्रम में भी जा कर आया हूं. इन स्वामी जी तारीफ़ में मोदी ने कहा था कि इस समय जितने युवा संत हैं उनमें इनका स्थान बहुत ऊपर है.  मोदी जी ने तो यहाँ तक कह दिया था कि इनकी विदेश यात्रा में भी में किसी न किसी तरह जुड़ा रहा हूं.
                    गुजरात के राजनीतिक गलियारों में यह भी चर्चा है कि बालिकाओं की शिक्षा के लिए संत ने आखिर राज्य सरकार को दो लाख रूपये क्यों दिये? ज्ञात हो कि उसी कार्यक्रम में उक्त संत नित्यानंद ने नरेन्द्र मोदी को दो लाख रूपये का चेक दिया था ताकि राज्य में लड़कियों की शिक्षा बेहतर हो सके. उस वक्त मोदी ने स्वामी जी की तारीफ करते हुए कहा था कि यह अकेले ऐसे संत हैं जो किसी राज्य सरकार को लड़कियों की शिक्षा के लिए धन दे रहे हैं.

नाम- कृपालु जी महाराज
 
अय्याश व् चोर बाबा कृपालु महाराज
इस कथित धर्म ध्वजावाहक संत कृपालु महाराज की संतई का भांडा पहली बार मई 1991 में उस समय फूट गया जब इस कथित धर्माचार्य को लड़कियों का अपहरण करने का ही आरोप नहीं लगा बल्कि लड़कियों के साथ जबरिया बलात्कार करने के आरोप भी लगा.कृपालु पर मई, 2007 में त्रिनिदाद और टोबैगो में एक 22 साल की युवती के साथ बलात्कार का आरोप लगा. इस आरोप में जगतगुरु कृपालु जी महाराज के विश्वश्त सहयोगी प्रिया शरण महाराज को नागपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भी भेज दिया था।
जरा सोचिए,
क्या किसी व्यक्ति की आध्यात्मिक उन्नति ब्यभिचारी-बलात्कारी मानसिकता के बीच सम्भव है?
विशुद्ध रूप से आध्यात्म के रास्ते पर चलकर क्या करोड़ों-अरबों रूपयों की अचल सम्पत्तियों का अम्बार लगा देना संभव है ?
अपने मूल नाम के साथ दस उपमाएँ लगाकर आज तक क्या कोई योग्य बन सका है?
अपने को श्रीकृष्ण का अवतार बताकर किसी के साथ बलात्कार करना क्या किसी धर्मात्मा का कार्य हो सकता है?
पुत्री समान अपनें ही शिष्याओं के साथ बलात्कार करने वाला बहुरूपिया कपटी संत क्या पूजनीय हो सकता है?
मूल रूप से उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जनपद के मनगढ़ कस्बे (गाँव) में 1922 में पैदा हुए राम कृपाल त्रिपाठी के विषय में तब किसी ने इस बात की कल्पना भी नहीं की होगी कि आगे चलकर यही राम कृपाल त्रिपाठी न सिर्फ ‘बाबा बाजार’ में अपनी बुलंदी का परचम लहराएगा बल्कि सारे कु-कर्मों को सफलता पूर्वक अंजाम देते हुए अरबों रूपये की अचल सम्पतियों का मालिक भी बन बैठेगा।
नाम में कृपा लेकिन काम में सिर्फ पाखंड। उत्तर प्रदेश के मनगढ़ में आश्रम में मुफ्त के बर्तन और पैसे बंटवाने के चक्कर में 63 लोगों की मौत का जिम्मेदार। जुबान पर धर्म की बातें, श्लोक और सत्य के इरादे लेकिन कर्म में घोर अधर्मी। मुक्ति का मार्ग दिखाने वाले कृपालु जी महाराज की कृपा हुई और 63 बेगुनाह महिलाओं और बच्चों को इस दुनिया से ही मुक्ति मिल गई। बाबा के आश्रम में मची भगदड़ में कुचल कर मारे गए वो और बाबा की आंखों से अफसोस का एक आंसू तक न टपका। उलटे बयान दिलवा दिया कि जो लोग मारे गए उन्हें वक्त ने मारा।
इस कलियुगी कथित धर्माधिकारी के झूठ एवं फरेब का भांडा उस समय फूटा है जब साक्ष्यों के अनुसार जिला प्रशासन ने इन पर 3 करोड़ अस्सी लाख रूपये का जुर्माना लगाया है। वृंदावन के कृपालु महाराज एक बार फिर विवादों के घेरे में हैं। मथुरा के कलेक्टर डी.सी. शुक्ला ने कृपालु महाराज की संस्था जगदगुरु कृपालु कुंज परिषद ट्रस्ट से तीन करोड़ 80 लाख रूपये जुर्माने के रूप में वसूलने का आदेश दिया है।
  
नाम- बाबा राम रहीम
बलात्कारी बाबा राम रहीम
इनकी हरकतें ऐसी कि पंजाब और हरियाणा नफरत की आग में झुलस उठे। बाबा राम रहीम ने सिखों की धार्मिक भावनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। कहा गया कि गुरू गोविंद सिंह की नकल कर बाबा ने अपनी पोशाक तैयार कराई। फिर क्या था कई दिनों तक पंजाब-हरियाणा में तलवारें खिंचीं रहीं। हर तरफ हंगामा शुरू हो गया। विवादों से डेरा बाबा का नाता बहुत पुराना है। -बाबा गुरमीत राम रहीम पर डेरा की शिष्याओं से बलात्कार का आरोप लगा। जांच टीम को डेरा बाबा के यहां एक गुफा भी मिली। आरोप है कि बाबा राम रहीम ने इसी गुफा में शिष्याओं से बलात्कार किया। यही नहीं आरोप ये भी है कि जब ये खबर अखबार में छाप दी गई तो उसका कत्ल करा दिया गया। इस हत्या का आरोप भी बाबा राम रहीम पर लगा। हत्या और बलात्कार के केस के अलावा बाबा राम रहीम पर गांव के किसानों की जमीन हथियाने का भी आरोप लगा। राम रहीम ने अदालतों में चल रही तमाम अदालती कार्रवाई पर भी असर डालने की कोशिश की। पूरा प्रशासन बाबा के चलते अपनी नींद उड़ाए रहा। लेकिन खुद राम रहीम आराम से बैडमिंटन खेलते रहे।

नाम- आसाराम बापू
आसाराम बापू तांत्रिक और हत्यारा

विवादों से बाबाओं में बापू नाम से जाने जाने वाले बाबा का भी नाता है। आसाराम पर आश्रम में काला जादू करने से लेकर लोगों की जमीन हड़पने तक के आरोप लगे हैं।
गुजरात सरकार और पुलिस को खुली चुनौती देने की हिम्मत आसाराम बापू के ही बूते की बात है। भले ही उनपर हत्या जैसा संगीन मामला दर्ज हो। भले ही सुप्रीम कोर्ट तक से उनकी अग्रिम जमानत की अर्जी खारिज हो चुकी हो। लेकिन उन्हें गिरफ्तार करने की ताकत किसी में नहीं। तमाम आरोपों से घिरे आसाराम बापू के हौसले फिर भी बुलंद रहते हैं।
-आसाराम बापू पर अपने एक पूर्व साधक राजू चंडोक पर जानलेवा हमला करने का मामला दर्ज किया था।
-चंडोक ने आश्रम में दो बच्चों की रहस्यमय तरीके से हुई मौत के मामले मे बापू के खिलाफ गवाही भी दी थी
-आसाराम पर आश्रम में काला जादू करने का भी लगातार आरोप लगता रहा है
-इसके अलावा गुजरात के तमाम शहरों में जमीन कब्जा करने का भी आरोप है।
इस वक्त जस्टिस त्रिवेदी कमीशन आसाराम के अहमदाबाद आश्रम में दो बच्चो की मौत की जांच कर रहा है। आश्रम में काले जादू और उससे जुड़े सबूत भी पेश किए जा चुके हैं। लेकिन हुआ कुछ नहीं। फिलहाल गुजरात पुलिस आसाराम पर शिकंजा कसने की कोशिश कर रही है।

नाम- सत्य साईं बाबा
बलात्कारी बाबा 
 अस्सी के दशक में स्वामी प्रेमानंद को बलात्कार एवं यौन प्रकरणों के उजागर होने पर उसे जेल की हवा खानी पड़ी थी। सत्य सांई बाबा बने इस तथाकथित बाबा पर बच्चों के समलैंगिक और युवा शिष्यों के समलैंगिक शोषण के कई आरोप लगे।त्रिची के साईबाबा के नाम से प्रसिद्ध प्रेमानंद को १९९४ में कई आपराधिक मामलों के बाद दोहरे उम्र कैद की सजा सुनाई थी. उसके राजनीतिक सम्बन्ध काफी ऊँचे बताये जाते हैं. उस पर बलात्कार के कई आरोप हैं, एक इंजीनियर ने जब आश्रम की गतिविधियों पर ऊँगली उठाई तो आरोप हैं कि प्रेमानंद ने उसकी हत्या कर दी थी

नाम- ज्योतिषि स्वामी अमृतानंथचैतन्य उर्फ संतोष माधवन
नाबालिक से बलात्कार 
 
संतोष माधवन को इंटरपोल की मदद से आँध्रप्रदेश पुलिस ने दो साल पहले गिरफ्तार किया था, उस पर दुबई के एक बड़े व्यापारी ने ५० लाख रूपए ठगने का मामला दर्ज करवाया था. माधवन ने इस व्यापारी को स्वामी अमृत चैतन्य बनकर उससे कहा था कि उसके राज्य सरकार और प्रशासन में अच्छे सम्बन्ध हैं,
केरल में एक स्वयंभू धर्मगुरु और भविष्यवक्ता स्वामी अमृतानंथ चैतन्य उर्फ संतोष माधवन को यहां की एक अदालत ने मंगलवार को नाबालिग से बलात्कार और यौन शोषण करने का दोषी करार दिया था।ज्योतिषि स्वामी अमृतानंथचैतन्य उर्फ संतोष माधवन को बलात्कार व यौन शोषण का दोषी ठहराते हुए 16 वर्षो की जेल की सजा सुनाई थी।
धर्मगुरु के फ्लैट से बड़ी संख्या में पोर्नोग्राफिक फिल्मों के सीडी एवं शेर की खाल बरामद हुए। गांजे के सेवन एवं अन्य गैरकानूनी गतिविधियों में लिप्त रहने संबंधित कई मामले दर्ज हैं। जिन पर सुनवाई चल रही है।

नाम- शंकराचार्य स्वामी जयेंद्र सरस्वती  
हत्यारा
तमिलनाडु पुलिस के एक विशेष दल ने २००४ में शंकराचार्य सरस्वती को  आंध्र प्रदेश के महबूबनगर ज़िले में गिरफ़्तार किया था.
शंकराचार्य सरस्वती पर कांचीपुरम के एक मंदिर के एक कर्मचारी की हत्या में लिप्त होने का आरोप है.
शंकररामन नामक इस कर्मचारी की हत्या सितंबर में तमिलनाडु के कुड्डलोर नामक जगह पर की गई थी.
काँची कामकोठी पीठ का 69 वाँ शंकराचार्च बनने से पहले जयेंद्र सरस्वती का असली नाम सुब्रहमन्यम था.

नाम- नेमिचंद्र जैन उर्फ चंद्रास्वामी
नेमिचंद्र जैन उर्फ चंद्रास्वामी 
 धन धन वाले बाबा,हथियारों की तस्करी से लेकर राजीव गांधी की हत्या में संलिप्त होने के आरोपों और शंकाओं के चलते चर्चा में रहे।लंदन के भारतीय व्यापारी लखू भाई पाठक को ठगने के इल्जाम में और उनसे पी वी नरसिंह राव के नाम पर पैसे वसूलने के मामले में चंद्रास्वामी को उनके स्वयं घोषित शिष्य नरसिंह राव ने ही मजबूरी में जेल भिजवाया था।

नाम-ढोंगी बाबा
 
 मुजफ्फरनगर के मुहम्मदपुर रायसिंह बुढ़ाना निवासी महिला जो अपने पति के इलाज मंे थक-हारकर माधवपुरम स्थित एक मंदिर में अपनी आखिरी आशा लेकर आयी थी। वहां उसके अनुसार उसके साथ बाबा यानी पुजारी ने दुष्कर्म किया। पुष्टि होने पर उसकी रिपोर्ट भी दर्ज की गई।

नाम-ढोंगी बाबा 2
 थाना गंगोह जिला सहारनपुर के ओमप्रकाश ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई कि वहां स्वरूपानंद सरस्वती आश्रम में रह रहे बाबा लभपतिनाथ ने उनकी 14 वर्षीय पुत्री को अगवा कर लिया है। साथ ही बाबा के ऊपर अन्य आरोप भी लगाए गए।

नाम-ढोंगी बाबा 3

ढोंगी बाबा
राजकोट के बच्चू बाबा जो अपने को सांई का अवतार बताते हैं उनकी भी पोल खुली और आरोप था कि ईलाज के नाम पर धोखाधड़ी करते थे।


आज बाबा उड़न खटोलों में उड़ रहे हैं। लंबी-लंबी एसी गाड़ियों में चल रहे हैं। कुटिया तो है पर कुटिया बाथरूम तक एयर कंडीशनर है। उसी तरह से आत्मिक शांति के नाम पर सबकुछ भक्त का ले लेना और उससे कहना कि बच्चा दुनियादारी छोड़ो, पर क्या ये बाबा खुद उस दुनियादारी से परे हैं? आज जरूरत है कि हमें देख, समझकर अपना गुरू चुनना चाहिए। भक्ति में इतने अंधे न हों कि सबकुछ न्यौछावर कर दें। यहां पर यह कहना प्रासंगिक है कि जो शक्ति बड़े-बड़े बाबाओं में है, वह शक्ति आप में, हम में और हर एक में है सिर्फ उसे जागृत करना है।
इस लिए कहा गया है कि-
कस्तूरी कुंडल बसे, युग ढूंढ बन माहि,
यानि कस्तूरी तो हिरन की नाभी में ही है, पर हिरन उसे पूरे जंगल में ढूंढ़ता फिरता है यही हम मनुष्यों के साथ भी है कि शांति या आत्म-संतोष हमारे अपने में ही निहित है। उसे दूसरों के सहारे से ढूंढ़ना अक्सर व्यर्थ ही जाता है।






3 comments:

  1. in dhongi babawo se desh ko kaun mukt karayega .... aapka prayas sarahaniya hai , dhanybaad - SHASHI BHUSHAN MAITHANI "PARAS" Editor - YOUTH ICON

    ReplyDelete
  2. ये हरामी बाबाउ ने देश को लुटा है उसमे और बहुतसे नाम शामिल है.लेकिन हमारे बद्दीमाग लोग समजते नही.

    ReplyDelete
  3. ab kya kare ......................hamare desh k log to kutte ki dum ki tarah hai jo kabhi seedhi nhi hogi , wo in babao ki puja karna nhi chhodenge

    ReplyDelete